Published On: Mon, Sep 13th, 2021

अलीगढ़ः स्वच्छता सभी धर्मों के दिव्य गुणों में से एक : डॉ. हमीदा तारिक


ख़बर सुनें

प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हमीदा तारिक ने कहा है कि गंदगी के कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां जन्म लेती हैं। स्वच्छता सभी धर्मों में एक महत्वपूर्ण तथ्य है। सभी शास्त्र इसे दिव्य गुणों में से एक के रूप में वर्णित करते हैं। डॉ. हमीदा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सेंटर ऑफ कंटिन्यूइंग एंड एडल्ट एजूकेशन एंड एक्सटेंशन के द्वारा अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में संबोधन कर रही थीं।
उन्होंने कहा कि साक्षरता मानव जीवन का सबसे मूल्यवान पहलू है। एएमयू और इसका प्रशासन महिलाओं में उच्च साक्षरता दर के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में सरकार की हर संभव मदद के लिए वचनबद्ध है। संस्था के निदेशक प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज ने साक्षरता दर में सुधार के लिए सरकारी और गैर सरकारी संगठनों को साथ मिलकर काम करने की आवश्यकता पर बल दिया। सामाजिक कार्य विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर नसीम अहमद खान ने स्वच्छता अभियान को एक सामाजिक जिम्मेदारी बताया। उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को तकनीकी सहायता और सभी लोगों की भागीदारी के माध्यम से हासिल किया जा सकता है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अली जाफर आबिदी ने स्वच्छता पर केंद्रित एक पावर प्वाइंट प्रस्तुति दी। उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान की सरकारी पहल में कूड़े का प्रबंधन समस्याओं को हल करने में कितना सहायक है। संस्था की डिप्टी डायरेक्टर प्रोफेसर आयशा मुनीरा रशीद ने भी कार्यक्रम में संबोधन किया।

प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हमीदा तारिक ने कहा है कि गंदगी के कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियां जन्म लेती हैं। स्वच्छता सभी धर्मों में एक महत्वपूर्ण तथ्य है। सभी शास्त्र इसे दिव्य गुणों में से एक के रूप में वर्णित करते हैं। डॉ. हमीदा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सेंटर ऑफ कंटिन्यूइंग एंड एडल्ट एजूकेशन एंड एक्सटेंशन के द्वारा अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में संबोधन कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि साक्षरता मानव जीवन का सबसे मूल्यवान पहलू है। एएमयू और इसका प्रशासन महिलाओं में उच्च साक्षरता दर के लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में सरकार की हर संभव मदद के लिए वचनबद्ध है। संस्था के निदेशक प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज ने साक्षरता दर में सुधार के लिए सरकारी और गैर सरकारी संगठनों को साथ मिलकर काम करने की आवश्यकता पर बल दिया। सामाजिक कार्य विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर नसीम अहमद खान ने स्वच्छता अभियान को एक सामाजिक जिम्मेदारी बताया। उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को तकनीकी सहायता और सभी लोगों की भागीदारी के माध्यम से हासिल किया जा सकता है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अली जाफर आबिदी ने स्वच्छता पर केंद्रित एक पावर प्वाइंट प्रस्तुति दी। उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान की सरकारी पहल में कूड़े का प्रबंधन समस्याओं को हल करने में कितना सहायक है। संस्था की डिप्टी डायरेक्टर प्रोफेसर आयशा मुनीरा रशीद ने भी कार्यक्रम में संबोधन किया।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!