कानपुर में कोरोना के कहर के बाद डेंगू का डंक ले रहा लोगों की जान, अस्पतालों में कम पड़ने लगे बेड


सुमित शर्मा, कानपुर
उत्तर प्रदेश के कानपुर में लोग कोरोना के कहर को लोग भूल भी नहीं पाए थे कि वायरल और डेंगू का डंक लोगों की जान ले रहा है। डेंगू जैसे लक्षण वाले मरीज बड़ी संख्या में हैलट अस्पताल पहुंच रहे हैं। हैलट के मेडिसिन और बालरोग विभाग में बेड्स की संख्या कम पड़ने लगी है। बेड पूरी तरह से फुल हो गए हैं। कोरोना की दूसरी लहर के बाद डेंगू ने स्वास्थ्य विभाग की पोल खोल कर रख दी थी। बीते दिनों में डेंगू और अन्य तरह के बुखार से 10 दिनों में लगभग 20 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। शुक्रवार को दो मरीजों की मौत हो गई।

कानपुर के हैलट अस्पताल में डेंगू और वायरल जैसे लक्षण वाले दो से ढाई हजार पेशेंट प्रतिदन ओपीडी पर्चा बनवाने के लिए पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को ओपीडी में पर्चा बनवाने के लिए हजारों मरीजों की लाइन लगी थी। इसी दौरान सर्वर ठप हो गया और ओपीडी पर्चा बनना बंद हो गया। हजारों मरीजों को बिना उपचार के लौटना पड़ा। शुक्रवार को बुखार से दो मरीजों की मौत हो गई। जाजमऊ में रहने शिवेंद्र (52) का एक निजि अस्पताल में उपचार चल रहा था, इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

वहीं फतेहपुर के बिंदकी निवासी कार्तिक (08) को एक हफ्ते से बुखार आ रहा था। परिजन बच्चे को पहले कांशीराम अस्पताल ले गए, जहां से हैलट के लिए रेफर कर दिया। हैलट पहुंचने से पहले बच्चे ने दम तोड़ दिया।

अधिकारियों ने किया निरीक्षण
वायरल और डेंगू ने पूरे कानपुर को अपनी चपेट में ले लिया है। शुक्रवार को मंडलायुक्त राजशेखर, डीएम आलोक तिवारी और महापौर प्रमिला पांडेय ने हैलट अस्पताल का निरीक्षण किया। बालरोग विभाग में बेड फुल हो गए, एक बेड पर दो बच्चों का उपचार करने की नौबत आ गई। बालरोग विभाग के पास ही मैटरविंगनिटी में 16 बच्चों को शिफ्ट किया गया। मैटरनिटी विंग में 144 बेड हैं। डीएम ने सख्त आदेश दिए है कि बाहर से किसी भी मरीज से दवा नहीं मंगाई जानी चाहिए। इसके साथ ही मंडलायुक्त और मेयर प्रमिला पांडेय ने जरूरी दिशा निर्देश दिए हैं।

डेंगू से सर्तक रहने की जरूरत
मेडिकल कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल डॉ रिचागिरी के मुताबिक बुखार से पीड़ित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। कई मरीज तो गंभीर स्थिति में आ रहे हैं। कई बुखार पीड़ित मरीजों के प्लेट्लेट्स तेजी से गिर रहे हैं। सभी मरीजों का उपचार किया जा रहा है। डेंगू से बचने के लिए लोगों को जागरूकता की भी जरूरत है।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!