Published On: Fri, Sep 4th, 2020

पुलिसकर्मी की हत्या व संगीन अपराधों में शामिल दुर्दान्त नक्सली पत्नी सहित गिरफ्तार


(Bihar News ) ट्रेन पर हमला (Attack on trains ), हथियार लूटने (Looted weapons ) और पुलिसकर्मियों की हत्या (Policeman murder ) सहित दर्जनों संगीन वारदातों में शामिल नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के दुर्दान्त नक्सली और उसकी पत्नी (Hard core naxli and wife arrested ) को बिहार पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। दोनों की गिरफ्तारी से नक्सलियों को तगड़ा झटका लगा है।

जमुई(बिहार): (Bihar News ) ट्रेन पर हमला (Attack on trains ), हथियार लूटने (Looted weapons ) और पुलिसकर्मियों की हत्या (Policeman murder ) सहित दर्जनों संगीन वारदातों में शामिल नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के दुर्दान्त नक्सली और उसकी पत्नी (Hard core naxli and wife arrested ) को बिहार पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। करीब दस साल से फरार हार्डकोर नक्सली अनिल कोडा और उसकी पत्नी प्रिया देवी दर्जनों मामले में वांछित थी। पुलिस दोनों की गिरफ्तारी को बड़ी कामयाबी मान रही है। कोडा व उसकी नक्सली पत्नी की गिरफ्तारी से नक्सलियों को तगड़ा झटका लगा है।

डीआईजी के निर्देश पर चला अभियान
एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने बताया कि मुंगेर डीआईजी मनु महाराज के निर्देश पर एएसपी अभियान सुधांशु कुमार और नक्सल सेल की टीम ने कार्रवाई शुरू की। जिसका परिणाम निकला कि 10 साल से फरार हार्डकोर नक्सली अनिल कोड़ा को पहले गिरफ्तार किया गया, जो कि लखीसराय जिले के कजरा कांड के अलावा और भी कई नक्सल वारदात में शामिल रहा है। जिसमें हथियार लूटने और पुलिस बल पर हमला करने के मामले शामिल हैं। अनिल की गिरफ्तारी के बाद उसकी पत्नी प्रिया ने पुलिस से संपर्क कर आत्मसमर्पण करने की बात कही। फिर उसने भी आत्मसमर्पण कर दिया। प्रिया देवी उर्फ गुडिय़ा पासवान पर भी पांच मामले दर्ज हैं।

नक्सली पत्नी ने किया आत्मसमर्पण
गुरुवार को 10 साल से फरार चल रहे हार्डकोर नक्सली अनिल कोड़ा की गिरफ्तारी हुई। इसके अगले ही दिन शुक्रवार को उसकी पत्नी प्रिया देवी उर्फ गुडिय़ा ने जमुई एसपी के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस को हार्डकोर नक्सली अनिल कोड़ा के जमुई में होने की सूचना पुलिस को मिली थी। इसके बाद बिहार मिलट्री पुलिस (बीएमपी)और स्पेशल ऑक्जिलरी पुलिस (सैप) ने कई टीम बनाकर कार्रवाई शुरू की। आखिरकार बरहट डैम के पास से कोड़ा को गिरफ्तार में कामयाबी मिली। गिरफ्तार कोड़ा पर जमुई और लखीसराय जिले में लगभग 15 मामले दर्ज हैं। जिसमें मुख्य रुप से 2010 में कजरा जंगल में बीएमपी/सैफ जवान के कैंप पर हमला बोलकर हथियार लूटने और सुरक्षाकर्मियों की हत्या का केस है।

सामुदायिक भवन उड़ाने व जवान की हत्या की थी
वर्ष 2013 में जमुई जिले के खैरा थाना के परासी के पास सामुदायिक भवन को उड़ाने और एसटीएफ बल पर हमला करना, जिसमें एसटीएफ के एक जवान शहीद हुआ था, जबकि दो अन्य जवान घायल हुए थे। पुलिस के अनुसार सरेंडर करने वाली महिला नक्सली प्रिया देवी भी कजरा कांड के अलावा और कई अन्य नक्सली कांड में वांछित थी। पुलिस के अनुसार अनिल कोड़ा की गिरफ्तारी के बाद उसकी पत्नी प्रिया देवी उर्फ गुडिय़ा पासवान ने पुलिस से संपर्क कर आत्मसमर्पण किया है। एसपी के समक्ष सरेंडर करने वाली प्रिया देवी पर भी कई केस दर्ज हैं।

ट्रेन हमले में शामिल था
इसके अलावा 2014 में खैरा थाना के गिद्धेश्वर जंगल में भी पुलिस के साथ मुठभेड़ में भी अनिल कोड़ा शामिल था। साल 2013 में लखीसराय जिले के कुंदर हाल्ट के पास धनबाद-पटना इंटरसिटी ट्रेन पर हमला और हथियार लूटने में भी अनिल कोड़ा शामिल था। साल 2013 में ही मुंगेर जिला के जमालपुर के पास भागलपुर इंटरसिटी को रोककर सुरक्षाबलों का हथियार लूटने के मामले में शामिल था।

सुरक्षा बलों से लूटे थे हथियार
इसी तरह 2014 में खैरा थाना के गिद्धेश्वर जंगल में भी पुलिस के साथ मुठभेड़ में भी अनिल कोड़ा शामिल था। साल 2013 में लखीसराय जिले के कुंदर हाल्ट के पास धनबाद-पटना इंटरसिटी ट्रेन पर हमला और हथियार लूटने में भी अनिल कोड़ा शामिल रहा। साल 2013 में ही मुंगेर जिला के जमालपुर के पास भागलपुर इंटरसिटी को रोककर सुरक्षाबलों का हथियार लूटने के मामले में वांछित था।






Show More

















Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!