Published On: Fri, Aug 14th, 2020

बिहार में 200 दलितों परिवारों ने ऐसा कारनामा किया कि सरकार की नींद उड़ गई


(Bihar News ) बिहार मे गर्माई विधानसभा चुनावों (Assembly election ) की राजनीति के बीच सरकारी वायदे को दरकिनार करते हुए करीब दो सौ दलित परिवारों (Dalit families occupied government land ) ने सरकारी जमीन पर कब्जा करके झौपडिय़ां डाल ली। इन दलित परिवारों ने सरकारी जमीन पर अपना आशियाना जमा लिया। इसकी सूचना मिलते ही सरकारी मशीनरी में हडकम्प मच गया। किसी ने सोचा भी न था कि ऐन चुनाव के माहौल में कोई ऐसा भी कर सकता है।

समस्तीपुर(बिहार): (Bihar News ) बिहार मे गर्माई विधानसभा चुनावों (Assembly election ) की राजनीति के बीच सरकारी वायदे को दरकिनार करते हुए करीब दो सौ दलित परिवारों (Dalit families occupied government land ) ने सरकारी जमीन पर कब्जा करके झौपडिय़ां डाल ली। इन दलित परिवारों ने सरकारी जमीन पर अपना आशियाना जमा लिया। इसकी सूचना मिलते ही सरकारी मशीनरी में हडकम्प मच गया। किसी ने सोचा भी न था कि ऐन चुनाव के माहौल में कोई ऐसा भी कर सकता है।

वोट बैंक

अब प्रशासन के समक्ष परेशानी यह है कि दलितों को जोर-जबरदस्ती से सरकारी जमीन से बदेखल नहीं किया जा सकता है। जबरन बेदखल करने से विपक्षी दल इस मुद्दे को हवा देकर सरकारी को दलित विरोधी घोषित करके दलितों के वोट बैंक खिसका सकते हैं। इसलिए प्रशासन फिलहाल देखो और चलो की नीति अपना रहा है।

वादा पूरा नहीं करने पर किया कब्जा
दलित परिवारों को कई वर्ष पूर्व सरकार द्वारा पर्चा दिया गया था। बार-बार लिखित और मौखिक आग्रह के बावजूद कब्जा दिलाने में प्रशासन ने आनाकानी की। इस बीच इस जमीन को अधिशेष घोषित कर सरकार के अन्य विभागों व संस्थानों को सौंपने की कोशिश की गई, जिससे आक्रोशित होकर भूमिहीन पर्चाधारियों ने कब्जा कर लिया। जिले में उजियारपुर प्रखंड के अकहा गांव में दो सौ दलित परिवारों ने सीपीएम नेता अजय कुमार के नेतृत्व में रायपुर ठाकुरवाड़ी की जमीन पर कब्जा जमा लिया। दलित परिवारों ने जमीन पर झोपड़ी बनाकर लाल झंडा गाड़ दिया। जिससे इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

भारी पुलिस बल तैनात
इसकी सूचना मिलते ही जिला प्रशासन का पूरा महकमा विवादित स्थल की ओर कूच कर गया। इसके अलावा भारी संख्या में जिला से आये क्यूआरटी, दंगानिरोधी दस्ता, महिला पुलिस कमीज़् व बज्रवाहन दस्ता के साथ स्थिति को नियंत्रण करने में लगी हुई है। तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए मौके पर एसडीओ दलसिंहसराय ज्ञानेंद्र कुमार, एसडीपीओ कुंदन कुमार सहित तमाम पदाधिकारी विवादित स्थल पर पहुंच कर सीपीएम नेता अजय कुमार व अन्य उनके सहयोगी से वार्ता की। प्रशासन और पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचकर कब्जा हटाने का प्रयास किया। एसडीओ ने बताया कि वार्ता के बाद यह तय हुआ है कि 31 अगस्त को बैठक होगी। जिसमें 130 पर्चाधारी का कागजात की जांच कर कब्जा दिलाने के दिशा में कार्रवाई की जाएगी।

पर्चा से जमीन तय की गई थी
इधर कब्जा कर रहे लोगों ने बताया कि उन्हें 2009 में सरकार द्वारा वासगीत पर्चा निर्गत की गई है। जिस पर कब्जा पाने के लिए कई वार लिखित व मौखिक कहने के बावजूद कब्जा कराने में प्रशासन आनाकानी करती रही है। उन्होंने बताया कि कब्जा की गई जमीन सरकार द्वारा महंथ के फाजिल जमीन को अधिशेष घोषित कर अन्य विभागों व संस्थानों को सौपने की कवायद शुरू की गई है। इसी से आक्रोशित होकर सोमवार को भूमिहीन पर्चाधाारियों ने पर्चा के मुताबिक कब्जा किया है।

अवैध कब्जा है

मामले में अंचलाधिकारी संजय कुमार महतो ने आम सूचना जारी कर बताया कि भू-हकबंदी के तहत ठाकुरवाड़ी के महंथ रामशंकर दास से उपरोक्त जमीन को अधिशेष घोषित कर दिया गया है। किसी को भूमि आवंटन नहीं किया गया है। ऐसे में किसी प्रकार का निर्माण या दखल कब्जा अवैध है। ऐसा करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस जमीन पर आईटीआई कॉलेज, उजियारपुर थाना भवन और पंचायत भवन के निर्माण को लेकर अंचल कार्यालय द्वारा प्रकिया आरंभ की गई थी।






Show More

















Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!