Published On: Tue, May 25th, 2021

‘यहां जाकर तो कोरोना भी अपनी मौत मर जाएगा’…बांका के स्वास्थ्य उपकेंद्र के बहाने लालू यादव ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना


हाइलाइट्स

  • बिहार में कई स्वास्थ्य उपकेंद्रों में वर्षों से जड़ा है ताला
  • कोरोनाकाल में हेल्थ सिस्टम की खुल रही पोल
  • बांका के बभनगामा स्वास्थ्य उपकेंद्र के बहाने निशाना
  • आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने फोटो किया ट्वीट

बांका
बिहार के बौंसी प्रखंड के बभनगामा के स्वास्थ्य उपकेंद्र सालों पहले बना था। अब यह प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्र कबाड़ में तब्दील हो गया गया है। इस स्वास्थ्य केंद्र पर मरीजों का इलाज नहीं होता है। ऐसे में यह पीएचसी सिर्फ ‘हाथी दांत’ साबित हो रहा है। आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने ट्वीट कर नीतीश सरकार पर निशाना साधा है।

बौंसी का स्वास्थ्य उपकेंद्र बना तबेला
स्वास्थ्य उपकेंद्र होते हुए भी स्थानीय लोगों को इलाज कराने के लिए कई किलोमीटर दूर निजी अस्पतालों में जाना पड़ता है। लाख शिकायत करने के बावजूद स्थानीय प्रशासन की नजरें इस तरफ नहीं जाती हैं। दरअसल, ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधा बेहतर करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार सुविधा के नाम पर पानी की तरह पैसा बहा रही है। लेकिन विभागीय खामियां व्यवस्था पर हावी हैं।

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर के गांव में कोरोना का बच्चों पर अटैक

लालू यादव ने ट्वीट कर साधा निशाना
बौंसी प्रखंड के बभनगामा स्वास्थ्य उपकेंद्र के बहाने विपक्षी पार्टी आरजेडी ने निशाना साधा है। आरजेडी ने सीधे-सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय को टारगेट पर लिया है। आरजेडी ने ट्वीट कर कहा कि ‘सीएम नीतीश कुमार और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने अपने सरकारी आवास में अपने लिए छोटा कोविड अस्पताल बना लिया है! बाकी लोग इस बांका जिले के बौंसी प्रखंड के बभनगामा के स्वास्थ्य केंद्र जैसों में जाकर, सिस्टम की दीवारों पर माथा फोड़ फोड़कर अपना इलाज करवाएं!’

वहीं, RJD के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए राजद सुप्रीमो लालू यादव ने लिखा कि ‘यहां जाकर तो कोरोना भी अपनी मौत मर जाएगा। इसलिए तो नीतीश कुमार ने हमारे बनाए हुए ऐसे हजारों स्वास्थ्य केंद्र बंद करवा दिए लेकिन कागजों में चालू रखा है ताकि इनका लूट अभियान जारी रहे।’

Ground Report: नीतीश जी! मुजफ्फरपुर के इस प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्र को है ‘इलाज’ की जरूरत, डॉक्टर की जगह यहां दिखाई देती हैं गाय-भैंस

हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर की खुल रही पोल
दरअसल कोरोना की वजह से बिहार में हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर की पोल खुल गई है। जब मरीजों की संख्या बढ़ने लगी तो छोटे-छोटे हेल्थ सेंटर और एंबुलेंस की खोज होने लगी। आमलोग स्वास्थ्य से जुड़ी चीजों के लिए परेशान होने लगे तो राजनीतिक पार्टियों का ध्यान भी इस ओर गया। सियासी पार्टियां अब वैसे अस्पतालों को ढूंढने में लगी जो ग्राउंड पर तबेला बन चुका है मगर सरकारी रिकॉर्ड में जिन्दा है।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!