Published On: Fri, Sep 25th, 2020

‘लालू चालीसा’ के बाद ‘लालू चरित मानस’ लिख रहे लालू भक्त लीला, RJD के टिकट पर यहां से लड़ना चाहते है चुनाव


लीला यादव स्वयं का लालू भक्त बताते है और लालू की जीवन गाथा को व्यक्त करते हुए अब लालू चरित मानस भी लिख रहे है (Lalu Chalisa Writer Leela Yadav Want RJD’s Ticket In Bihar Election) (Bihar Election 2020) (Ranchi News) (Darbhanga News) (Leela Yadav) (Lila Yadav) (RJD) (Lalu Yadav) (Lalu Chalisa) (Lalu Charit Manas)…

दरभंगा,सीतामढ़ी,रांची: बिहार चुनाव (Bihar Election 2020) की तारीखों की घोषणा के साथ ही प्रदेश में चुनावी रंग चढ़ने लगा है। हालांकि चुनाव की शुरुआती सुगबुगाहट के साथ ही राजनीतिक दल तैयारियों में जुट गए थे। लेकिन अब बिहार में सीट शेयरिंग, टिकट वितरण, रूठने—मनाने और दल बदल का दौर शुरू होने वाला है। इसी बीच राष्ट्रीय जनता दल (RJD) की चुनावी टिकट पाने के लिए पार्टी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के एक समर्थक ने जद्दोजहद शुरू कर दी है। लालू चालीसा लिखकर चर्चा में आए लाल बाबू राय उर्फ लीला यादव (Lila Yadav) ने रांची में वहां डेरा डाल लिया है जहां लालू यादव को फिलहाल रखा गया है। लीला यादव स्वयं को लालू भक्त बताते है और लालू की जीवन गाथा को व्यक्त करते हुए अब लालू चरित मानस भी लिख रहे है।

यह भी पढ़ें: Bihar Assembly Election 2020 : 3 चरणों में होंगे चुनाव, 10 नवंबर को आएंगे चुनाव परिणाम

चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव को इस समय रांची के केली बंगले में रखा गया है।
यह बंगला रांची के रिम्स अस्पताल परिसर में ही स्थित है। लालू यादव की तबीयत खराब होने पर उन्हें रिम्स लाया गया था। ‘केली बंगले’ के गेट पर ही लीला यादव लालू से मिलने की आस लिए बैठे है।

यूं हुई लालू से मुलाकात…

'लालू चालीसा' के बाद 'लालू चरित मानस' लिख रहे लालू भक्त लीला, RJD के टिकट पर यहां से लड़ना चाहते है चुनाव

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया कि 1993 में उन्होंने ही लालू चालीसा लिखी थी। लालू समर्थकों के बीच यह पुस्तक काफी चर्चित हुई थी। लीला स्वयं को लालू का भक्त बताते है। उन्होंने लालू की तुलना भगवान कृष्ण और राम से की है तो खुद को सुदामा बताया है। उन्होंने बताया कि पटना स्थित महुआ बाग में एक राजनीतिक कार्यक्रम के तहत लालू यादव ने भाषण दिया था जिसने उनके दिल में जगह बना ली। इसके बाद से लालू उनके आदर्श बन गए। इस रैली के दौरान लीला यादव ने लालू से मुलाकात भी की, इस दौरान लालू ने उनसे नाम पूछने के बाद लीला को अपना सहोदर अर्थात सगा भाई बताया था। इसके बाद ही लीला ने लालू चालीसा लिखी और वितरित भी की। मैट्रिक तक पढ़ाई करने वाले लीला यादव ने 2 से 2.5 महीने में लालू चालीसा लिख डाली थी।

यह भी पढ़ें: Bihar Election पर संजय राउत का तंज, क्या कोरोना वायरस खत्म हो गया

यहां से चाहते है टिकट…

लीला ने बताया कि उसे लालू की भक्ति छोड़ने के लिए लोगों ने डराया, धमकाया और कई बार मारपीट भी की। लीला का कहना है कि 27 साल से लालू की निस्वार्थ भक्ति कर रहे है। अब वह चुनाव का टिकट चाहते है जिससे वह जनता की सेवा कर सके। बिहार में सीतामढ़ी के परिहार विधानसभा क्षेत्र से उन्होंने टिकट की मांग की है।

यह भी पढ़ें: Bihar Assembly Polls रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का जवाब

लालू चरित मानस में बताई लालू की लीला…

लीला का कहना है कि लालू प्रसाद यादव को साजिश के तहत फंसाया गया है और फिर जेल में डाल दिया गया क्योंकि विरोधियों को डर था कि लालू उनसे आगे नहीं निकल जाए। लीला यादव ने लालू से नहीं मिलने तक बंगले के गेट पर ही डटे रहने की बात कही है। उन्होंने बताया है कि वह अब लालू पर एक और किताब लिख रहे है। इसका नाम उन्होंने श्री कलयुग पुत्र लालू चरित मानस रखा है। विभिन्न कांड में लालू के जीवन को बांटते हुए वह इसकी रचना कर रहे है।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…





Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!