Published On: Mon, Nov 23rd, 2020

Asaduddin Owaisi Bihar Agenda: bihar me hindustan nahi bol sakte Owaisi ka bihar agenda kya hai बिहार में ‘हिन्दुस्तान’ नहीं बोल सकते, आखिर ओवैसी का एजेंडा क्या है?


पटना
बिहार विधानसभा में नए विधायकों के शपथ के दौरान ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के विधायक अख्तरुल इमान ने हिन्दुस्तान शब्द बोलने से इनकार कर दिया। उनका कहना था कि हिन्दी, अंग्रेजी, मैथिली, संस्कृत मौजूद शपथ पत्र में भारत शब्द लिखा है तो ऊर्दू में हिन्दुस्तान क्यों लिखा गया है। अख्तरुल इमान की आपत्ति के बाद प्रोटेम स्पीकर जीतन राम मांझी ने उन्हें भारत शब्द बोलकर ही शपथ लेने की इजाजत दे दी।

मामले को एआईएमआईएम की पार्टी के विधायक ने उठाया था इसलिए बीजेपी ने इसे तुरंत से लपक लिया। बीजेपी के विधायक नीरज कुमार बब्लू ने तत्काल सलाह दे दी कि जिन लोगों को हिन्दुस्तान शब्द बोलने से परहेज है उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए। हालांकि जेडीयू विधायक मदन सहनी ने इसे केवल चर्चा में बने रहने के लिए उठाई गई बात बताई। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान शब्द के साथ ही शपथ लिया जाता तो भी सही रहता।

मामले के तूल पकड़ने पर AIMIM विधायक अख्तरुल ईमान ने कहा कि हमारे देश के संविधान में भारत शब्द का उल्लेख है, तो हिंदुस्तान की जगह भारत बोलने में क्या दिक्कत है। जो लोग इस शब्द को लेकर तुल दे रहे हैं। वह गुलनाज के मामले को दबाना चाह रहे हैं। यहां बता दें कि वैशाली में छेड़खानी का विरोध करने पर 20 साल की एक युवती को गांव के ही दबंगों ने जिंदा जला दिया था। इस घटना के प्रति विरोध जताने के लिए कांग्रेस ने विधानसभा सत्र के पहले ही दिन हाथों में तख्तियां लेकर मौजूद दिखे।

akhatarul-aslam

AIMIM विधायक अख्तरुल ईमान

इन तमाम राजनीतिक बयानबाजी के बीच बड़ा सवाल यह है कि आखिर असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM बिहार में हिन्दुस्तान शब्द से परहेज क्यों कर रही है। इस शब्द के जरिए ओवैसी बिहार में कौन सी राजनीतिक चाल चलने की तैयारी में हैं। हालांकि पूरे मसले पर ओवैसी का बयान नहीं आया है। लेकिन

बिहार में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन मुस्लिम विधायकों के जीतने में आंकड़े में दूसरे नंबर है। AIMIM को बिहार की पांच सीटों पर जीत मिली है, जिनमें अमौर, कोचाधाम, जोकीहाट, बायसी और बहादुरगंज सीट है। ये सीटें सीमांचल के इलाके की हैं, जहां मुस्लिम कैंडिडेट AIMIM से ही जीत दर्ज किए हैं।

लव जिहाद कानून की मांग पर असदुद्दीन ओवैसी ने क्या कहा?

एआईएमआईएम के अध्यक्ष और हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी भी संसद में उर्दू में ही शपथ लेते हैं। ओवैसी अक्सर कहते हैं कि भारत पर हिंदी, हिंदू और हिंदुस्तान के आधार पर शासन नहीं किया जा सकता। बतौर सांसद ओवैसी उर्दू में चार बार शपथ ली है। ओवैसी कहते रहते हैं कि सांसद के तौर पर मैंने उर्दू में शपथ ली है तो क्या यह असंवैधानिक है?

मालूम हो कि इस बार के बिहार चुनाव में ओवैसी की पार्टी के पांच विधायक जीते हैं। मुस्लिम विधायकों के जीतने में आंकड़े में दूसरे नंबर है। ओवैसी के विधायक अमौर, कोचाधाम, जोकीहाट, बायसी और बहादुरगंज सीट से जीते हैं। इसके अलावा सीमांचल की करीब 13 से ज्यादा सीटों पर AIMIM के प्रत्याशी ने महागठबंधन के प्रत्याशी को काफी डैमेज किया है। ऐसे में ओवैसी की पार्टी हिन्दुस्तान और भारत के मुद्दे पर कौन सी राजनीति शुरू करना चाहते हैं ये देखने वाली बात होगी।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!