Published On: Sun, May 9th, 2021

Bihar News: बिहार के स्वास्थ्य विभाग के बदइंतजामी की खुली पोल, न एंबुलेंस मिली न ऑक्सिजन, मरीज ने बीच सड़क पर तोड़ा दम


हाइलाइट्स

  • सुपौल जिले में बीच सड़क पर एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने तोड़ दिया दम
  • मृतक के परिजनों का आरोप- मरीज को रेफर कर केंद्र से बाहर कर दिया गया
  • रेफर करने के 2 घंटे तक मरीज को ऑक्सिजन और एंबुलेंस नहीं मिली: मृतक के परिजन
  • अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी मैनेजर ने आरोपों को किया खारिज, कहा- अस्पताल में पर्याप्त ऑक्सिजन और एंबुलेंस

सुपौल
बिहार के सुपौल जिले में बीच सड़क पर एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने दम तोड़ दिया। मामला त्रिवेणीगंज का है। बताया जा रहा है कि यहां शनिवार की देर शाम का है। आरोप है कि मरीज का ऑक्सिजन लेवल कम होने के बाद उसे रेफर कर दिया गया लेकिन न तो उसे ऑक्सिजन लगाई गई और न ही एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई। जिसके चलते 40 वर्षीय एक व्यक्ति ने बीच सड़क पर ही तड़प कर दम तोड़ दिया है।

मामला त्रिवेणीगंज अनुमंडल मुख्यालय स्थित बुनियादी केंद्र का है, जहां कोविड सेंटर संचालित किया जा रहा है। कोरोना संदिग्ध मृत 40 वर्षीय विजेंद्र सरदार के परिजन ने बताया कि अस्पताल के डॉक्टर और नर्स की लापरवाही के कारण विजेंद्र सरदार की मौत हुई है। मृतक विजेंद्र पिलुवाहा पंचायत के वार्ड नं-6 का रहनेवाला था।

परिजनों का आरोप- मरीज को रेफर कर केंद्र से बाहर कर दिया
मृतक के परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि मरीज की तबीयत बिगड़ने के बाद उसे शनिवार की सुबह बुनियादी केंद्र इलाज के लिए लाया गया। जहां डॉक्टर ने उसका इलाज शुरू किया लेकिन मरीज का ऑक्सिजन लेवल कम होने के कारण उसे रेफर कर दिया गया। जिसके बाद मरीज को केंद्र से बाहर कर दिया गया। लिहाजा मरीज को लेकर उसके परिजन बुनियादी केंद्र के सामने सड़क पर ही बैठ गए।

‘रेफर करने के 2 घंटे तक नहीं मिली मरीज को ऑक्सिजन, न एंबुलेंस’
आरोप है कि रेफर होने के दो घंटे बाद तक मरीज को न तो ऑक्सिजन लगायी गयी और न ही अन्य अस्पताल ले जाने के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई। जिसके चलते मरीज ने बुनियादी केंद्र के बाहर सड़क पर ही दम तोड़ दिया। आरोप तो ये भी लगाया गया है कि मरीज की मौत के बाद उसे आनन-फानन में ऑक्सिजन लगायी गयी।

Bihar Samachar: नीतीश जी! आपके ‘सुशासन’ में शर्मनाक है यह तस्वीर, नहीं मिली एंबुलेंस तो मरीज को ठेले पर रख अस्पताल पहुंचे परिजन

अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी मैनेजर ने आरोपों को किया खारिज
वहीं घटना की जानकारी मिलते ही अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया। वहीं मौके पर ASDM प्रमोद कुमार, त्रिवेणीगंज थाना के SHO संदीप कुमार सिंह पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे और कानूनी प्रक्रिया में जुट गए। घटना को लेकर स्थल पर मौजूद अनुमंडलीय अस्पताल में पदस्थापित प्रभारी मैनेजर ने बताया कि मृतक के परिजनों का आरोप गलत है। उनके पास न तो ऑक्सिजन की कमी है और न ही एम्बुलेंस की।

Supol

मामले की जानकारी होने पर मौके पर पहुंची पुलिस



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!