Published On: Fri, Aug 13th, 2021

Bihar News: मिड-डे मील का खाली बोरा सिर पर रखकर बेचने वाले शिक्षक पर कार्रवाई, तो सरकार के फैसले का शुरू हुआ विरोध


हाइलाइट्स

  • बिहार में बोली लगाकर बोरा बेचने वाले शिक्षक पर कार्रवाई
  • शिक्षक को सस्पेंड करने के फैसले का शुरू हुआ विरोध
  • बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने निलंबन को बताया ‘तुगलकी फरमान’
  • कई प्राथमिक विद्यालय संघों का सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का फैसला

कटिहार
बिहार के कटिहार में एक शिक्षक के सिर पर खाली बोरा रखकर बेचने और जोर-जोर से बोली लगाने का वीडियो वायरल होने के बाद शिक्षा विभाग ने कार्रवाई की। विभाग की सिफारिश पर शिक्षक मो. तमिजुद्दीन को निलंबित कर दिया गया। कटिहार के जिला शिक्षा पदाधिकारी देवबिंद कुमार सिंह ने कार्रवाई को लेकर बताया कि वायरल वीडियो में शिक्षक ने जो कदम उठाया वह शिक्षक पद की गरिमा के खिलाफ है। हालांकि, सरकार की इस कार्रवाई को लेकर सूबे में अब विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है।

शिक्षक के निलंबन पर छिड़ा घमासान
शिक्षक मो. तमीजउद्दीन कदवा प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय कांताडीह में प्रभारी प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात थे। उनके बोरा बेचने का वीडियो वायरल होने पर शिक्षा विभाग की अनुशंसा पर पंचायती राज विभाग ने आठ अगस्त को निलंबन लेटर जारी किया था। बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ब्रजनंदन शर्मा ने निलंबन को ‘तुगलकी फरमान’ बताया है।

इसे भी पढ़ें:- बिहार में सुशासन का हाल देखिए! एक फरमान के चलते मास्टर जी बोरा बेचने हुए मजबूर
बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने बताया ‘तुगलकी फरमान’
ब्रजनंदन शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार हमेशा किसी न किसी बात के लिए शिक्षकों को दोषी ठहराती है। हम पहले ही सरकार से शिक्षकों को गैर शैक्षणिक गतिविधियों से फ्री करने की मांग कर चुके हैं। विभाग को सीधे शिक्षक को निलंबित करने के बजाय कारण बताओ नोटिस जारी करना चाहिए था। परिवर्तनकारी प्राथमिक शिक्षक संघ के सचिव आनंद मिश्रा ने भी निलंबित शिक्षक के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त की और कहा कि सरकार ने जल्दबाजी में फैसला लिया है।

ग्राउंड रिपोर्ट: शिक्षक नियोजन में योग्य उम्मीदवारों के बावजूद क्यों खाली रह जाती हैं सीटें, ये है इसका जवाब

कई संगठनों ने प्रदर्शन का किया ऐलान
कई प्राथमिक विद्यालय संघों ने सरकार के फैसले के खिलाफ 13 अगस्त को अपने प्रखंड मुख्यालय और 16 अगस्त को जिला मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन का फैसला लिया है। कटिहार के डीईओ देवबिंद कुमार सिंह ने बुधवार को टीओआई को बताया कि तमीजुद्दीन के खिलाफ विभागीय आदेश का पालन न करने और शिक्षकों, शिक्षा विभाग और राज्य की छवि खराब करने के आरोप में कार्रवाई की गई है।

CM नीतीश जी! शिक्षक भर्ती के नाम पर बिहार में क्या हो रहा, इस फफकती लड़की के सवालों का जवाब तो दीजिए

शिक्षक पर कार्रवाई को लेकर कटिहार के DEO ने क्या कहा…
कटिहार के डीईओ ने बताया कि स्कूलों में खाली बोरियों को बेचने और स्कूल के फंड में पैसे जमा करने के लिए कहा गया है। विभाग ने बोरी के पैसे भी तय कर दिए हैं। हालांकि, जिस तरह से शिक्षक बोरे बेच रहे थे वह शिक्षक पद की गरिमा के खिलाफ था। उन्होंने नुक्कड़ नाटक कर, सिर पर बोरे बेचकर और तख्ती लेकर बिहार की छवि धूमिल की। इन्हीं आधार पर उनका निलंबन पत्र भेजा गया था और उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू की जाएगी।

732



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!