Published On: Thu, Aug 12th, 2021

Nawada News: किशोरी के साथ बोधगया बालिका गृह में यौन शोषण का आरोप, परिवार ने की CBI जांच की मांग


नवादा
किशोरी के साथ बोधगया बालिका गृह में यौन शोषण के बाद नवादा व्यवहार न्यायालय ने पूरे मामले को संज्ञान लेते हुए किशोरी का चिकित्सीय जांच कराने का आदेश जारी किया है। इसके लिए चिट्ठी के जरिए एसीजेएम टू की अदालत ने नवादा सिविल सर्जन को मेडिकल बोर्ड का गठन कर बच्ची का चिकित्सीय जांच करने का आदेश दिया है। इसको लेकर नवादा सदर अस्पताल में सिविल सर्जन ने एक मेडिकल बोर्ड का गठन भी कर दिया है। बच्ची को चिकित्सीय जांच में भेज भी दिया गया है।


इधर व्यवहार न्यायालय के एक्सपीपी शिवनंदन शर्मा ने बताया कि बच्ची के परिजनों ने इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की भी है।इसको लेकर महिला आयोग, मुख्य न्यायधीश पटना, मुख्य सचिव पटना, मगध कमिश्नर, नवादा जिलाधिकारी को चिट्ठी भेज दिया गया है।मेडिकल जांच रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में आगे की अन्य कार्रवाई होगी।

जानिए क्या है पूरा मामला
वारिसलीगंज थाना क्षेत्र की निवासी किशोरी नौवीं की छात्रा है। उसके पिता ने वारिसलीगंज थाना में 28 जून को उसके अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। बताया गया कि 27 जून की रात पूरा परिवार घर पर था लेकिन 28 जून की सुबह उनकी बेटी घर से गायब थी। खोजबीन के दौरान ग्रामीणों से जानकारी मिली कि पड़ोसी मोहल्ले का एक लड़का उनकी बेटी का अपहरण कर ले गया है, जिसके बाद मामले में आईपीसी की धारा 363 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। वारिसलीगंज पुलिस ने 12 जुलाई को किशोरी को कोर्ट में पेश किया। न्यायालय में सीआरपीसी की धारा 164 के तहत किशोरी का बयान कलमबद्ध हुआ है, जहां उसने अपहरण की बात नकार दी और प्रेम प्रसंग का मामला बताया।

किशोरी ने कहा कि प्रेमी के फुसलाने पर वह घर छोड़कर भाग गई। प्रेमी युवक उसे लेकर इंदौर गया और फिर दोनों ने वहां एक मंदिर में शादी कर की। वापसी के दौरान पटना में युवक का साला और अन्य परिजनों ने उन्हें पकड़ा और फिर वारिसलीगंज पुलिस के हवाले कर दिया। किशोरी ने बताया कि घटना के बाद उसे पता चला कि युवक पहले से हो शादी – शुदा था। इधर, युवक का साला भी किशोरी को उसकी और उसके माता -पिता की हत्या करने की लगातार धमकी दे रहा है।

इस संबंध में जिला बाल संरक्षण इकाई गसर के हरसक निदेशक दिवेश कुमार का कहना है कि बोधगया बालिका गृह में सभी तरफ सीसीटीवी लगे हैं। पांच-पांच महिला पुलिसकर्मी तैनात है। यहां किसी को जाने की इजाजत नहीं है। ऐसे में बालिका गृह में किसी प्रकार के यौन शोषण की बात पूरी तरह गलत है। अभी तक हमें इस बात बात की जानकारी भी नहीं है कि किसी किशोरी ने यौन शोषण को लेकर शिकायत की है। कोर्ट में पिता ने अर्जी दाखिल कर बेटी को अपने घर वापस बुलाया था।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!