Published On: Sat, Aug 14th, 2021

WhatsApp कर देगा कंगाल! हैकर्स ने बदला ठगी का तरीका, ऐप पर यूजर्स को ऐसे बनाते हैं बलि का बकरा


नई दिल्ली। ऑनलाइन स्कैम बहुत तेजी के साथ बढ़ते जा रहे हैं, आए दिन ऐसे मामले सुनने को मिलते रहते हैं। ऐसे में आपको सावधान रहने की जरूरत है। दुनिया की जानी-मानी इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp पर यूजर्स को काफी निशाना बनाया जा रहा है। इसकी बदौलत स्कैमर्स एक ही समय में बड़े स्तर पर यूजर्स को पकड़ते हैं। वॉट्सऐप पर यूजर्स को टारगेट करने के लिए नए फ्रॉड के जरिए उनके बैंक अकाउंट में पैसे चुराने की कोशिश की जा रही है। इस स्कैम को रूस के सिक्योरिटी रिसर्चर द्वारा पकड़ा गया था जो कि सभी कंपनियों से पैकेज डिलीवरी से संबंधित है।

ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों को कर रहे टारगेट
पिछले साल से कोरोना वायरस महामारी के बाद से दुनिया में लॉकडाउन हुआ और लोगों ने घर बैठकर बड़ी मात्रा में सभी चीजों को ऑनलाइन ऑर्डर करना शुरू किया। इस दौरान लोगों ने दवाई, फूड, कपड़े, फर्नीचर, इलेक्ट्रॉनिक सामान समेत सभी जरूरी चीजों को ऑनलाइन खरीदा, जिसके चलते इन बिक्री बहुत ज्यादा बढ़ गई। ऐसे में कोई भी अपने घर से बाहर जाकर कैश का इस्तेमाल नहीं करना चाहता था, क्योंकि इसमें खतरा था। ऐसे में जो लोग ऑनलाइन खरीदारी कर रहे हैं उन्हें साइबर क्रिमिनल टारगेट कर रहे हैं।

ऐसे बनाया जाता है शिकार
सबसे पहले तो साइबर क्रिमिनल वॉट्सऐप यूजर्स को ऐसे मैसेज भेजते हैं, जिनमें वह खुद को किसी डिलीवरी कंपनी या पैकेज डिलीवर करने का हवाला देते हैं। इसमें कहा जाता है कि यह प्रोसेस पूरा करने के लिए यूजर्स को किसी लिंक पर क्लिक करना चाहिए या डिलीवरी कंफर्म करने के लिए छोटी सी पेमेंट करनी चाहिए।

Twitter के कारण क्यों हुआ यूजर्स की आंखों में खिंचाव, सिरदर्द और माइग्रेन; सेफ रहने के लिए आप भी जानिए वजह

लिंक पर क्लिक करते ही शुरू होता है ये खेल
जब कोई भी इस प्रकार के लिंक पर क्लिक करता है तो वह उन वेबसाइट्स पर चले जाता है, जहां पर ज्यादा जानकारी या फिर डिलीवरी के बदले पेमेंट करने के लिए कहती है। यहां पर यूजर्स से डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड और नेट बैंकिंग आदि की जानकारी पूछी जाती है। वैसे तो आपको किसी भी स्थिति में ऐसी जानकारी नहीं देनी चाहिए। पिछले कुछ समय से इस तरह की ट्रिक धोखा देने के लिए सबसे ज्यादा आम रही है। हर किसी के धन की सेफ्टी उसके खुद के हाथों में होती है। किसी यूजर को कभी भी इस प्रकार के लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए। पहले उसकी जांच करनी चाहिए और उसके बाद ही कुछ करना चाहिए। चाहें यूजर किसी जानी पहचानी वेबसाइट, बड़ी सोशल मीडिया कंपनी और बैंक आदि पर ही लेंड क्यों न हो। वहां पर यूजर्स को अपना यूजरनेम या पासवर्ड नहीं दर्ज करना चाहिए। सबसे बड़ी बात यह है कि किसी भी वेबसाइट पर शक हो तो अपने डेबिट कार्ड की जानकारी या सीवीवी नंबर नहीं भेजना चाहिए।

क्या बंद हो रही है Vodafone Idea? कंपनी ने क्यों लिखा ग्राहकों को खत; जानिए अंदर की बात

कास्परस्की ने बताया बचने का तरीका
कास्परस्की ने कहा कि यूजर्स को इस प्रकार के लिंक पर कभी भी क्लिक नहीं करना चाहिए। उन्हें यह ध्यान देना चाहिए कि क्या उन्होंने कुछ ऑर्डर किया था। अगर किया था तो कब किया था और उसकी डिलीवरी हुई या नहीं हुई। स्कैमर्स इसका फायदा उठाते हैं, क्योंकि अधिकतर लोग इस पर ध्यान नहीं देते और बिना सोचे ही क्लिक कर देते हैं। ऐसे में बिना सोचे समझे खासतौर पर बुजुर्ग लोग अपनी फाइनेंशियल इंफॉर्मेशन शेयर कर देते हैं।



Source link

About the Author

-

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

  • A WordPress Commenter on Hello world!